चक्रों का विज्ञान, चक्रों को जागृत करने विस्तृत की विधि

चक्रों का विज्ञान, चक्रों को जागृत करने विस्तृत की विधि

चक्रों का विज्ञान, चक्र जागृत करने विस्तृत की विधि – क्या यह संभव है की एक साधारण इंसान असाधारण ऊर्जा(पावर्स) को प्राप्त कर सकता अगर हां तो कैसे? आपने शरीर में सात चक्रों के बारे में तो सुना है – मूलाधार चक्र – नींद-आराम, भोजन –    मंत्र- लं स्वाधिष्ठान चक्र – जीवन प्रवाह, दुःख … Read more

Raksha Bandhan 2023: रक्षाबंधन 2023

Raksha Bandhan 2023: रक्षाबंधन 2023

  Raksha Bandhan 2023: रक्षाबंधन 2023 का त्योहार हर साल की तरह इस बार भी श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जारहा है हिंदू पंचांग के अनुसार सावन महीने की पूर्णिमा तिथि को राखी पूर्णिमा भी कहा जाता है। भारत में वैसे तो कई पर्व और त्योहार मनाए जाते हैं, परन्तु रक्षाबंधन का अलग ही … Read more

शुभ मुहूर्त व शुभ तिथियाँ

शुभ मुहूर्त व शुभ तिथियाँ

  आओ जानें शुभ मुहूर्त व शुभ तिथियाँ हमारे जीवन में क्यों महत्वपूर्ण हैं। आपने पिछले पोस्ट शुभ मुहूर्त तिथियाँ आर्टिकल को हमारे divinepanchtatva.com में पढा की हम दैनिक जीवन में आसानी से अपने विशेष कार्यो के अनुसार शुभ मुहूर्त्त को पंचांग और बतायी गयी तिथि और वारों की विभिन्न सारणियो की मदद से जान … Read more

शुभ मुहूर्त तिथियाँ , ज्ञात करने की सरल विधि

शुभ मुहूर्त तिथियाँ

यदि शुभ मुहूर्त तिथियाँ हमें पता हों और उनमे शुभ कार्य किए जाएं तो वे सफल होते हैं। इसके विपरीत अशुभ योगों में किए गए कार्य असफल होते हैं और उनका फल भी अशुभ होता है। इन शुभ व अशुभ योगों का निर्माण किन तिथियों, वारों व नक्षत्रों के संयोग से होता है इसका विवरण … Read more

Kawad Yatra 2023 हरिद्वार से ही क्यों जल उठाते हैं कांवडिय़ें, जानें कांवड़ यात्रा का महत्व

श्रावण मास में भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने का विशेष महत्व होता है। 4 जुलाई 2023 से सावन की शुरुआत हो रही है। श्रावण में भगवान् शिव को जल चढ़ाने और सोमवार का व्रत करने से महादेव भक्तों की सभी मनोकामनाएँ पुरी करतें हैं। इस साल का सावन बहुत ही खास है। अधिकमास होने से … Read more

पंचतत्त्व क्या हैं‌‍‌? पंचतत्त्व का महत्व, पंचतत्त्व का जीवन में उपयोग

पंचतत्त्व क्या हैं‌‍‌? पंचतत्त्व का महत्व, पंचतत्त्व का जीवन में उपयोग

पंचतत्त्व क्या हैं‌‍‌? पंचतत्त्व का महत्व, पंचतत्त्व का जीवन में उपयोग- आधुनिक विज्ञान के अनुसार दो या दो से अधिक तत्व आपस मैं मिलकर यौगिक बनाते है। लेकिन प्राचीन वेदान्त में यौगिक की अवधारणा नहीं है अपितु इसके अनुसार एक तत्व ही दुसरे तत्व की उत्पत्ति का कारक होता है अर्थात वस्तुओं के प्रारंभिक तथा … Read more